टेनिस पर भी फिक्सिंग का साया, घेरे में 135 खिलाड़ी

07

नई दिल्ली. आमतौर पर हमने क्रिकेट में फिक्सिंग के केस सुने हैं लेकिन अब धीरे-धीरे यह बाकी खेलों में भी बढ़ता जा रहा है. फिक्सिंग का असर अब टेनिस  में भी दिखने लगा है. जर्मनी  के मीडिया की खबर ने पूरे टेनिस जगत को सकते में डाल दिया है. जर्मन मीडिया में आई खबरों के मुताबिक जांचकर्ताओं को यकीन है कि इसमें कुल 135 खिलाड़ी शामिल हैं.

135 खिलाड़ी फिक्सिंग में शामिल
जर्मन मीडिया के मुताबिक दुनिया के टॉप-30 खिलाड़ियों में शामिल एक खिलाड़ी सहित कुल 135 टेनिस खिलाड़ी फिक्सिंग के घेरे में है. यूरोपियन देश के साथ-साथ के अमेरिका (America) में जारी मैच फिक्सिंग जांच में शामिल है. दैनिक समाचार पत्र ‘डाइ वेल्ट’ और प्रसारक ‘जेडडीएफ’ के मुताबिक जिन खिलाड़ियों पर संदेह हैं उनमें से एक एटीपी रैंकिंग में टॉप-30 में शामिल है. इस खिलाड़ी ने तीन एटीपी टूर  (ATP Tour) खिताब जीते हैं.

आर्मेनियाई सट्टेबाजी माफिया नेटवर्क के शामिल होने का शक

रिपोर्ट में बताया गया है कि आर्मेनियाई सट्टेबाजी माफिया नेटवर्क मैच फिक्सिंग मामले में शामिल है. बेल्जियम के सरकारी अभियोजक एरिक बिसचोप ने जेडडीएफ से कहा कि 'हम आर्मेनियाई सट्टेबाजी माफिया नेटवर्क के बारे में बात कर रहे हैं जो यूरोप में सात देशों में फैला है और बड़े स्तर पर गलत काम कर रहा है.' उन्होंने आगे बताया कि जो मैच फिक्स किए गए उनमें सैकड़ों छोटे-छोटे सट्टे शामिल हैं जिसमें लोगों ने हर केस में लाखों यूरो की कमाई की है.

टॉप-50 रैकिंग वाले खिलाड़ी भी फिक्सिंग में शामिल
अर्जेंटीना (Argentina) के पूर्व खिलाड़ी मार्को ट्रुंगेलिटी  ने दावा किया था कि सट्टेबाजों ने फिक्सिंग के लिए उनसे संपर्क किया था. जेडडीएफ और डाइ वेल्ट इस मामले में उनसे भी बात कर रहे हैं. ट्रंगेलिटी ने बताया कि एटीपी रैकिंग में टॉप-50 में शामिल प्रफेशनल खिलाड़ियों ने भी मैच फिक्स किए हैं. यह फिक्सिंग हर स्तर पर हो रही है. इस साल जनवरी में स्पेन की पुलिस ने एक आर्मेनियाई गैंग द्वारा की गई मैच फिक्सिंग के मामले की जांच के दौरान 15 लोगों को गिरफ्तार किया था