भारतीय मूल के 12 वर्षीय छात्र ने जीता स्वर्ण पदक

07

हांगकांग में आयोजित ‘वर्ल्ड मेमोरी चैंपियनशिप’ में सिंगापुर निवासी भारतीय मूल के 12 वर्षीय छात्र ने स्वर्ण पदक जीता है. बच्चों की श्रेणी में ध्रुव मनोज ने ‘नेम्स एंड फेसेज’ और ‘रैंडम वर्ड्स’ में 56 अन्य प्रतियोगियों को मात देते हुए जीत हासिल की.वर्ल्ड मेमोरी चैंपियनशिप प्रतियोगिता का आयोजन 20 से 22 दिसम्बर के बीच किया गया. इस प्रतियोगिता के तहत ध्रुव ने सात से अधिक ‘डेक्स ऑफ शफल्ड कार्ड’ को एक घंटे में याद कर लिया था.

सिंगापुर की ओर से इस प्रतियोगिता में केवल ध्रुव ने हिस्सा लिया था. चीन, रूस, भारत, ताइवान और मलेशिया से 260 से अधिक प्रतियोगियों ने अपनी दावेदारी पेश की थी.

सिंगापुर के एक समाचार पत्र ‘टूडे’ ने ध्रुव के हवाले से कहा, ‘‘सबसे मुश्किल काम ध्यान केंद्रित करना था. मेरे अधिकतर दोस्त ‘पीएसएलई’ से आगे नहीं जा पाए. मेरा वहां बैठना और हिस्सा लेना कठिन था लेकिन मैं इसे करने में कामयाब रहा.’’ध्रुव के पिता मनोज प्रभाकर ने कहा, ‘‘मैंने पाया कि ध्रुव को ऐसा करने में मजा आ रहा है और वह अच्छा कर रहा है इसलिए मैंने उसका समर्थन किया.’’