खेल मंत्रालय ने पद्म सम्मान के लिए भेजे नाम, सभी बेटियां

07

नई दिल्ली भारतीय खेल इतिहास में पहली बार एक महिला एथलीट को देश का दूसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पद्म विभूषण देने की सिफारिश की गई है। खेल मंत्रालय ने छह बार की वर्ल्ड चैंपियन बॉक्सर एमसी मैरीकॉम का नाम आगे किया है। मैरीकॉम को 2013 में पद्म भूषण और 2006 में पद्म श्री से सम्मानित किया जा चुका है।इससे भी दिलचस्प तथ्य यह है कि खेल मंत्रालय की ओर 9 एथलीट के नाम पद्म सम्मान के लिए भेजे गए हैं और सभी नाम बेटियों के हैं। वर्ल्ड चैंपियन बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु का नाम पद्म भूषण के प्रस्तावित किया गया है, जोकि देश का तीसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान है। सिंधु का नाम इस सम्मान के लिए 2017 में भी भेजा गया था, लेकिन वह फाइनल सूची में जगह नहीं बना पाईं। उन्हें 2015 में पद्म श्री मिला था।

इन तीन पुरुष खिलाड़ियों को मिला है पद्म विभूषण
पद्म विभूषण सम्मान अब तक तीन पुरुष खिलाड़ियों को मिल चुका है। वे हैं, चेस खिलाड़ी विश्वनाथन आनंद (2007), महान क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर (2008) और पर्वातारोही सर एडमंड हिलेरी (2008, मरनोपरांत)।

इन खिलाड़ियों का नाम प्रस्तावित

मैकी कॉम और सिंधु के अलावा अन्य 7 महिला खिलाड़ियों का नाम पद्म श्री के लिए प्रस्तावित है। ये खिलाड़ी हैं, कुश्ती खिलाड़ी विनेश फोगाट, टेबल टेनिस स्टार मनिका बत्रा, महिला क्रिकेट टीम की टी20 कप्तान हरमनप्रीत कौर, हॉकी कैप्टन रानी रामपाल, पूर्व शूटर सुमा शिरुर और पर्वातारोही जुड़वा बहनें ताशी और नुंगशी मलिक।प्रस्तावित नामों को गृह मंत्रालय के पद्म अवार्ड कमिटी को भेज दिया गया है। अवार्ड के लिए चयनित नामों का ऐलान गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर 25 जनवरी 2020 को किया जाएगा।

छह बार की वर्ल्ड चैंपियन हैं मैरी कॉम

अप्रैल 2016 में बीजेपी की अनुशंसा पर राज्य सभा सदस्य चुनी गईं 36 वर्षीय मैरी कॉम अपने दूसरे ओलिंपिक (2020 तोक्यो गेम्स) में क्वॉलिफाइ करने के प्रयास में हैं। 2012 के लंदन ओलिंपिक में वह ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी हैं। मणिपुर की मैरीकॉम खिलाड़ी पिछले साल 48 किलोग्राम में रेकॉर्ड छठी बार वर्ल्ड चैंपियन बनी थीं।

पहली वर्ल्डचैंपियन सिंधु

रियो ओलिंपिक्स में सिल्वर मेडल जीतने वालीं सिंधु ने हाल ही में वर्ल्ड चैंपियनशिप का खिताब अपने नाम किया है, वह ऐसा करने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी हैं। उन्होंने जापान की नोजोमी ओकुहारा को 21-7, 21-7 से हराया था।