खेल मंत्रालय ने ‘योग’ को खेल के रूप में मान्यता दी

07

नई दिल्ली : खेल मंत्रालय ने सोमवार को ‘योग’ को खेल के रूप में मान्यता देने का फैसला किया और इसे ‘प्राथमिकता’ वर्ग में रखा।मंत्रालय ने साथ ही बड़े अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में अतीत के प्रदर्शन के आधार पर तलवारबाजी को अपग्रेड करते हुए इसे ‘अन्य’ से ‘सामान्य’ वर्ग में डाला है। साथ ही ‘विश्वविद्यालय खेलों’ को ‘प्राथमिकता’ वर्ग में रखने का फैसला किया गया है।

युवा मामलों और खेल मंत्रालय ने अब फैसला किया है ओलंपिक, एशियाई खेलों, राष्ट्रमंडल खेल जैसी बहु खेल प्रतियोगिताओं में शामिल खेल और वह खेल जिसमें ओलंपिक-एशियाई खेल-राष्ट्रमंडल खेल या उस खेल की एशियाई और विश्व चैम्पियनशिप में अगर व्यक्तिगत स्पर्धा में आठवीं तक और टीम स्पर्धा में 10वें स्थान तक हासिल किया जाता है तो उसे ‘सामान्य’ वर्ग में रखा जाएगा।

इस वर्ग के दिए वित्तीय सहायता इस प्रकार होगी: राष्ट्रीय चैम्पियनशिप का खर्चा उठाया जाएगा, एक साल में भारत में एक अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता की खर्चा उठाया जा सकता है और साल में एक बार सीनियर और जूनियर दोनों स्तर में अधिकतम एक विदेशी दौरे का खर्च उठाया जा सकता है।