सोनम ने रियो ओलिंपिक में मेडल जीतने वाली साक्षी मलिक को दी मात

07

दो बार की विश्व कैडेट चैम्पियन सोनम मलिक ने रियो ओलंपिक कांस्य पदकधारी साक्षी मलिक को जबकि जूनियर अंशु मलिक ने विश्व चैम्पियनशिप की पदकधारी पूजा ढांडा को पराजित कर उलटफेर करते हुए एशियाई चैम्पियनशिप के लिए भारतीय टीम में अपना स्थान पक्का किया। सोनम और अंशु दोनों को पहले दौर में अनुभवी पहलवानों से भिड़ना था, लेकिन दोनों ने साहसिक प्रदर्शन किया।फाइनल दौर में सोनम ने राधिका को 4-1 से हराकर 62 किग्रा वर्ग में भारतीय टीम में जगह बनाई। अंशु ने पूजा को हराने के बाद 57 किग्रा ट्रायल के फाइनल में मानसी को पस्त किया। अन्य वजन वर्गों में कोई हैरानी भरे फैसले देखने को नहीं मिले, जिसमें विनेश फोगाट (53 किग्रा) और दिव्या काकरान (68 किग्रा) ने आसानी से अपने मुकाबले जीत लिए।

निर्मला देवी (50 किग्रा) और किरण गोदारा (76 किग्रा) अन्य पहलवान रहीं जिन्होंने ट्रायल में जीत हासिल की। विजेता पहलवान रोम में 15 से 18 जनवरी तक चलने वाली पहली रैंकिंग सीरीज में भाग लेंगी जिसके बाद ये नई दिल्ली में 18 से 23 जनवरी तक होने वाली एशियाई चैम्पियनशिप में शिरकत करेंगी। अगर ये पहलवान इन दोनों प्रतियोगिताओं में पदक जीत लेती हैं तो 27 से 29 मार्च तक जियान में होने वाले एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी।

सोनम मलिक को लग गया था लकवा
 लकवा होने के कारण छह महीने तक बिस्तर पर थी. कोच ने बताया, 'सोनम अपना हाथ ऊपर नहीं उठा पाती थी. वह किसी भी चीज को पकड़ नहीं पाती थीं. साक्षी की हालत देखकर डॉक्टर ने कहा था कि उसे अपना रेसलिंग का सपना छोड़ना होगा और अब उनका ठीक होना उनकी किसमत पर निर्भर करता है लेकिन सोनम ने हार नहीं मानी.' सोनम (Sonam Malik) के पिता के पास के ज्यादा पैसा नहीं था जिसके कारण उन्होंने बड़े शहर में जाकर इलाज कराने के बजाए आर्युवेदिक इलाज कराया लेकिन सोनम के शरीर पर इसका असर हुआ और वह ठीक हो गईं.सोनम ने 2018 में वर्ल्ड कैडेट रेसलिंग चैंपियनशिप (World Cadet Wrestling Championship) में ब्रॉन्ज मेडल जीता और इसके अगले साल ही इसी चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल अपने नाम किया. ट्रायल मुकाबले में सोनम पहले साक्षी से 4-6 से पीछे थीं. हालांकि इसके बाद सोनम ने चार अंक का दांव लगाकर 10-10 से बराबरी कर ली. इसके बाद ज्यादा अंको का दांव लगाने के कारण उन्हें जीत हासिल हुई. इसके बाद फाइनल में उन्होंने राधिका को 4-1 से मीत देकर भारतीय टीम में जगह बनाई.

भारत का प्रतिनिधित्तव करेगी सोनम मलिक
विजेता पहलवान रोम में 15 से 18 जनवरी तक चलने वाली पहली रैंकिंग सीरीज में भाग लेंगी जिसके बाद ये नयी दिल्ली में 18 से 23 जनवरी तक होने वाली एशियाई चैम्पियनशिप में शिरकत करेंगी. अगर ये पहलवान इन दोनों प्रतियोगिताओं में पदक जीत लेती हैं तो 27 से 29 मार्च तक जियान में होने वाले एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी.भारतीय टीम - निर्माला देवी (50 किग्रा), विनेश फोगाट (53 किग्रा),अंशु मलिक (57 किग्रा), सोनम मलिक (63 किग्रा), दिव्य काकरण (68 किग्रा), किरण सिहाग (75 किग्रा)