'रिवर्स स्विंग कला है, बेईमानी नहीं' ;पाकिस्तानी गेंदबाज

07

कराची साउथ अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच केप टाउन टेस्ट के दौरान कैमरन बैनक्रॉफ्ट गेंद से छेड़छाड़ करते हुए कैमरे पर कैद हो गए। बॉल टैंपरिंग की इस घटना ने ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट को झकझोर कर रख दिया। स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर को अपने पद (कप्तान और उपकप्तान) गंवाने पड़े। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की ओर से इन दोनों पर एक साल का प्रतिबंध लगा और मान-सम्मान गंवाया सो अलग। इसके अलावा बैनक्रॉफ्ट पर 9 महीने का प्रतिबंध लगा।यह हालांकि पहली बार नहीं है जब रिवर्स स्विंग को शक की निगाह से देखा जाता रहा है। रिवर्स स्विंग में पाकिस्तानी गेंदबाजों को खासी महारत हासिल थी। लेकिन बॉल टैंपरिंग के विवादों से वह भी कभी अछूते नहीं रहे। हालांकि रिवर्स स्विंग से जितना खौफ पाकिस्तान तेज गेंदबाजों ने पैदा किया उतना कोई और नहीं कर पाया। तेज रफ्तार से होती रिवर्स स्विंग ने पाकिस्तानी गेंदबाजों ने दुनियाभर के बल्लेबाजों को नचाया। हालांकि उन पर बॉल टैंपरिंग के आरोप भी लगे लेकिन उन्होंने इस बात को स्वीकार नहीं किया। पाकिस्तान के गेंदबाज मानते रहे हैं कि बेईमानी किए बिना भी रिवर्स स्विंग हासिल की जा सकती है। 

रिवर्स स्विंग के 'जनक' 
पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज सरफराज नवाज को कई लोग 'बाब-ए-रिवर्स स्विंग' यानी रिवर्स स्विंग का जनक कहते हैं। उन्होंने इस बात से साफ इनकार किया कि रिवर्स स्विंग हासिल करने के लिए आपको गेंद से छेड़छाड़ करने की जरूरत होती है। उन्होंने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया, 'यह कहना गलत है कि रिवर्स स्विंग चीटिंग है। आप गेंद से छेड़छाड़ किए बिना भी रिवर्स स्विंग हासिल कर सकते हैं।'उन्होंने कहा, 'एक परंपरागत स्विंग होती है जो आप नई गेंद से हासिल करते हैं और एक रिवर्स स्विंग होती है जो पुरानी गेंद से की जाती है। यह बात प्रयोगशालाओं में भी साबित हो चुकी है कि रिवर्स स्विंग के पीछे एक पूरा विज्ञान है।' सरफराज ने 55 टेस्ट मैचों में 177 विकेट लिए हैं। इसमें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न में 1979 टेस्ट मैच में 86 रन देकर नौ विकेट भी शामिल हैं। इसमें एक स्पेल में उन्होंने 33 गेंदों पर सिर्फ एक रन देकर सात विकेट लिए थे। 

रिवर्स स्विंग हमेशा एक कला रहेगी 
उन्होंने कहा, 'जब मैंने यह कला इमरान को सिखायी तो उसने इसे विकसित किया। इमरान ने इसे वसीम और वकार को सिखाया। उस समय सब इसे बेईमानी कहते थे लेकिन जब इंग्लिश टीम ऐसा करने लगी तो यह कला बन गयी।' उन्होंने कहा, 'यह कला थी और कला रहेगी लेकिन टैंपरिंग चीटिंग है और ऑस्ट्रेलियाई टीम ने जो साउथ अफ्रीका के साथ किया उसकी उन्हें सही सजा मिली है।' उन्होंने कहा, 'परंपरागत स्विंग कराना आसान है- अगर सीम की पोजिशन स्लिप फील्डर की ओर है तो गेंद दाएं हाथ के बल्लेबाज से बाहर निकलेगी और अगर सीम लेग साइड पर है तो गेंद अंदर की ओर स्विंग होगी। जबकि रिवर्स स्विंग बिलकुल उलट है।' सरफराज ने यह कला इमरान खान को सिखायी जिन्होंने अपने उस्ताद से ज्यादा महारत हासिल की लेकिन साथ ही उन्होंने बोतल के ढक्कन से गेंद से छेड़छाड़ करने की बात भी स्वीकारी। 1994 में एक टीवी इंटरव्यू के दौरान जब उनसे पूछा गया कि गेंद से छेड़छाड़ किए बिना भी वह 362 विकेट हासिल कर पाते। तो उन्होंने जवाब दिया: जी, यह एक मिथक है कि जो भी गेंद से छेड़छाड़ करता है वह विकेट ले सकता है। इंग्लिश काउंटी के लिए खेलने वाले इमरान ने कहा, 'पूरे ससेक्स टीम में मैं अकेला था जो गेंद को रिवर्स स्विंग करवा सकता था जबकि दूसरे छोर से अन्य गेंदबाज ऐसा नहीं कर पाते थे।' 

स्विंग के सुलतान 
इमरान ने रिवर्स स्विंग की मशाल वसीम अकरम और वकार यूनिस को थमायी। इन्हें क्रिकेट में गेंदबाजों की सबसे खतरनाक जोड़ी माना जाता है। इन दोनों ने 1992 में पाकिस्तान के इंग्लैंड दौरे के दौरान इंग्लिश टीम की गिल्लियां उखाड़ दीं। ब्रिटिश मीडिया ने इन पर गेंद से छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया। वसीम ने इंग्लिश काउंटी लंकाशर के लिए एक दशक से ज्यादा क्रिकेट खेला वहीं वकार ग्लैमर्गन और सरे के लिए खेले।वकार ने कहा, 'उन आरोंपों ने वाकई दर्द पहुंचाया।' उन्होंने कहा, 'बेशक बेईमानी किए बिना रिवर्स स्विंग हासिल की जा सकती है। आजकल ज्यादातर गेंदबाज ऐसा करते हैं, विकेट लेते हैं और अपनी टीम को जीत दिलाने में मदद करते हैं।' वहीं स्विंग के सुलतान कहे जाने वाले वसीम अकरम कभी बॉल टैंपरिंग करते नहीं पकड़े गए। वकार को वर्ष 2000 में श्री लंका में खेली गयी त्रिकोणीय सीरीज सीरीज में बॉल टैंपरिंग का दोषी पाया गया था। इसके बाद उन पर मैच फीस का 50 फीसदी जुर्माना और एक मैच का प्रतिबंध लगा दिया गया था। 

एक ही तरह की हो गेंद 
वकार का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक ही तरह की गेंद इस्तेमाल होनी चाहिए। उनका मानना है कि इससे मुकाबला और संतुलित होगा। उन्होंने सवाल पूछा, 'हम अलग-अलग देशों में अलग तरह की गेंद क्यों इस्तेमाल करते हैं?' उन्होंने कहा, 'मेरी नजर में ड्यूक बॉल सबसे अच्छी होती हैं और एसजी इसके करीब है। स्विंग गेंदबाजी के लिए ये गेंदें अच्छी हैं तो अच्छी स्विंग के लिए समानता बनाए रखने के लिए इन्हीं गेंदों को दुनियाभर में इस्तेमाल करना चाहिए।' उन्होंने कहा, 'इससे गेंदबाजों को फायदा होगा और साथ ही इससे बेहतर बल्लेबाज भी सामने आएंगे। हम समस्या का हल निकाल लेंगे और इस तरह के आरोप-प्रत्यारोप से बचे रहेंगे।'