खेल जगत में पद्म पुरस्कारों से जुड़े रोचक तथ्य

07

2018 के लिए पद्म सम्मानों की घोषणा की गई जिनमें 2 खिलाड़ियों – पंकज आडवाणी और महेंद्र सिंह धोनी को पद्म भूषण और 4 खिलाड़ियों को पद्म श्री से सम्मानित किया जाएगा.

1. क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न पाने वाले इकलौते खिलाड़ी हैं. उन्हें साल 2013 में ये सम्मान दिया गया.

2. पद्म सम्मानों के इतिहास में  सिर्फ 2 भारतीय खिलाड़ियों को पद्म विभूषण सम्मान मिला है. सचिन तेंदुलकर और विश्वनाथन आनंद को साल 2008 में देश का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान मिला था.

3. ऐवरेस्ट की चोटी पर चढ़ने वाले सर ऐडमंड हिलेरी को भी ट्रैकिंग स्पोर्ट में योगदान के लिए 2008 में पद्म विभूषण दिया जा चुका है.

4. पद्म सम्मानों के इतिहास में कुल 29 खिलाड़ियों को पद्म भूषण सम्मान दिया गया है जिनमें से सबसे ज्यादा 11 बार ये सम्मान क्रिकेटरों को दिया गया है.

5. 1956 में पहली बार खेल के क्षेत्र में पद्म भूषण सम्मान दिया गया. भारत की टेस्ट टीम के पहले कप्तान रहे सी के नायडू और हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को ये पुरस्कार मिला.

6. तेनजिंग नॉर्गे (1959), मोहन सिंह कोहली (1965), नवांग गोंबू (1965), सोनम ग्यातसो(1965) को माउंटेनियरिंग और ट्रैकिंग के लिए पद्म भूषण दिया जा चुका है.

7. 2016 में साइना नेहवाल और सानिया मिर्जा को पद्म भूषण दिया गया. वो ये सम्मान जीतने वालीं पहली महिला खिलाड़ी हैं.

8. मशहूर सूटिंग कंपनी रेमंड ग्रुप के पूर्व चेयरमैन विजयपथ सिंघानिया कई प्लेन उड़ा चुके थे और बेहतरीन एविएटर रहे हैं. उन्हें 2006 में इस विशेष खेल के लिए पद्म भूषण दिया गया.

9. अभी तक कुल 192 खिलाड़ियों को चौथा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पद्म श्री दिया जा चुका है. 3 बार ओलंपिक गोल्ड जीतने वाले हॉकी खिलाड़ी बलबीर सिंह 1957 में ये सम्मान पाने वाले पहले खिलाड़ी बने.

10. साल 1960 में आरती साहा पद्म श्री जीतने वाली और कोई भी पद्म सम्मान जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी बनीं. आरती साहा बेहतरीन तैराक थीं.

11. पीवी सिंधू सबसे छोटी उम्र में पद्म श्री जीतने वालीं खिलाड़ी हैं. उन्हें 19 साल की उम्र में 2015 में ये सम्मान दिया गया.