मणिपुर में राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय

07

नई दिल्ली| सरकार ने लोकसभा में मणिपुर में राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय की स्थापना का विधेयक पेश किया ।इस विश्वविद्यालय का लक्ष्य खेल विज्ञान, खेल प्रौद्योगिकी, खेल प्रबंधन और खेल कोचिंग के क्षेत्रों में शिक्षा को बढ़ावा देना है।राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय विधेयक-2018 को खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ द्वारा पेश किया गया था। यह इस साल की शुरुआत में सरकार द्वारा लाए गए एक अध्यादेश को प्रतिस्थापित करेगा।यह प्रस्तावित विश्वविद्यालय सर्वश्रेष्ठ अंतरराष्ट्रीय मानकों को अपनाते हुए चुनिंदा खेल विषयों के लिए राष्ट्रीय प्रशिक्षण केंद्र के रूप में भी कार्य करेगा।

यह प्रस्ताव 2014-15 के बजट भाषण में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने दिया था। मणिपुर सरकार ने विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए, पश्चिम इम्फाल जिले के कोउतुक में 325.90 एकड़ जमीन चिह्न्ति की है। यह राष्ट्रीय खेल विश्वविद्यालय अंतर्राष्ट्रीय मानकों का पहला पूर्ण खेल विश्वविद्यालय होगा।ग्वालियर में डीम्ड विश्वविद्यालय लक्ष्मीबाई नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिकल एजुकेशन को शारीरिक शिक्षा के स्नातक और शारीरिक शिक्षा पाठ्यक्रम के मास्टर डिग्री की पेशकश का ही अधिकार है। नेताजी सुभाष राष्ट्रीय खेल संस्थान केवल एथलीटों और कोचों की ट्रेनिंग पर ध्यान देता है।यह प्रस्तावित विश्वविद्यालय खेल से संबंधित विभिन्न क्षेत्रों में स्नातक की डिग्री, मास्टर डिग्री, और अनुसंधान और प्रशिक्षण प्रदान करेगा।सरकार ने पाठ्यक्रम और अनुसंधान सुविधाओं के विकास के लिए आस्ट्रेलिया में दोनों कैनबरा विश्वविद्यालय और विक्टोरिया विश्वविद्यालय के साथ ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं।