संदीप पूनिया को भीम अवार्ड मिलने पर गांव में जश्न

07

सतनाली मंडी : एथलीट संदीप पूनिया को राजभवन चंडीगढ़ में भीम अवार्ड से सम्मानित किया जा रहा था, वहीं सुरेहती जाखल गांव के लोग टीवी से चिपके थे। हर ग्रामीण उल्लासित था और हर तरफ था जश्न का माहौल। हो भी क्यों नहीं संदीप पूनिया महेंद्रगढ़ जिले के एकमात्र एथलीट हैं जिन्होंने दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय पैदल चाल में पुरुषों की पचास किमी पैदल चाल स्पर्धा में अपना ही रिकार्ड तोड़ते हुए स्वर्ण पदक हासिल किया है। साथ ही चार से तेरह अगस्त तक लंदन में होने वाली विश्व  चैंपियनशिप के लिए क्वालीफाई किया है।

रविवार को संदीप को चंडीगढ़ स्थित राजभवन में भीम अवार्ड प्रदान किया गया। इस बीच संदीप पूनिया के घर बधाई देने वालों का तांता लगा रहा। गांव का हर आदमी मानो अपने लाडले को अवार्ड लेते हुए देखना चाहता था, इसीलिए सुबह से ही लोग टीवी के सामने बैठ गए। ग्रामीणों ने लड्डू बांटकर एक दूसरे से खुशी साझा की। दूसरी ओर, संदीप की पत्नी गीता देवी ने गांव के मंदिर में जाकर विशेष पूजा-अर्चना की तथा लंदन में होने वाली चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने की मन्नत मांगी। खुशी का इजहार करते हुए संदीप के पिता प्रीतम पूनिया ने कहा मैं किसान सूं, किसान का बेटा नाम रोशन करै तो छाती तो फूल ही जा सै। वे बोले-संदीप की मां ओमवती बचपन में ही गुजर गी थी। बचपन तैं ही संदीप नै उरै तई पुचावण खातर बड़ी मुश्किला का सामना करना पड़ा सै।