क्रिकेट सहित सभी खेलों में लीगल हो सट्टेबाजी

07

लॉ कमीशन ने अपनी ताज़ा रिपोर्ट में सट्टे को वैधानिक बनाने की सिफारिश की है. आयोग की राय में सट्टेबाजी पर पूर्ण प्रतिबंध सरासर नाकाम रहा है. तमाम कानून और पाबंदियों के बावजूद सट्टेबाज़ी धड़ल्ले से हो रही है. घुड़दौड़ हो या लॉटरी, क्रिकेट हो या चुनाव या फिर किसी भी तरह से खेला जाने वाला जुआ, इसे वैध बनाने में ही जनता और सरकार का फायदा है.कानून मंत्रालय को गुरुवार को सौंपी गई 176वीं रिपोर्ट 'लीगल फ्रेमवर्क: गैंबलिंग एंड स्पोर्ट्स बेटिंग इंक्लूडिंग क्रिकेट इन इंडिया' में आयोग ने एक जगह टिप्पणी की है कि मौजूदा कानून और पाबंदी का उचित असर नहीं दिख रहा है. ऐसे में सरकार इसे नियमित कर दे. इसमें पैन कार्ड और आधार के ज़रिए कैशलेस लेनदेन की सिफारिश की गई है. जिससे सब कुछ साफ हो और तमाम लेनदेन कैशलेस हो.

कमीशन के मुताबिक कंसल्टेशन के दौरान भी इसे वैध बनाने के पक्ष में कई गुना ज्यादा मत और सुझाव आए. इनमें जाने माने और आम लोग भी बड़ी तादाद में आगे आए.ऑनलाइन खेल होने से आप किसी भी किस्म के फ्रॉड से बच जाते हैं और संबंधित विभाग की निगरानी भी रहती है. कमीशन ने अपनी रिपोर्ट में सुप्रीम कोर्ट के बीसीसीआई मामले में दिए गए जजमेंट का भी ज़िक्र किया है. जिसमें इस सट्टे को विधि सम्मतबनाने के लिए विधि आयोग के अध्ययन और रिपोर्ट आने वाली है.बता दें कि जस्टिस वी एस चौहान की अध्यक्षता में लॉ कमीशन जल्दी ही समान नागरिक संहिता और एक देश एक चुनाव पर भी रिपोर्ट सौंपेगा.

क्या इससे अंडरवर्ल्ड की कमर टूटेगी
आमतौर खेलों में अवैध सट्टेबाजी के काम में अंडरवर्ल्ड का इनवाल्वमेंट होता है. अंतरराष्ट्रीय तौर पर कई अंडरवर्ल्ड हाथ मिलाकर ये काम कर रहे हैं. कुछ समय पहले इसी ज्वलंत मुद्दे पर दिल्ली में एक सेमिनार हुआ. लब्बोलुआब यही था कि अगर सट्टेबाजी को अंडरवर्ल्ड और माफिया से बचाना है. साथ ही सकारात्मक दिशा देनी है तो इसे वैधानिक कर देना चाहिए. अगर ऐसा हो गया तो सरकार के पास टैक्स के रूप में इतना धन आयेगा कि खेल ही नहीं कई ढांचों को मुकम्मल रूप दिया जा सकेगा. तब निश्चित तौर पर अंडरवर्ल्ड की कमर टूटेगी. आमतौर ये पैसा आतंकवाद और गलत कामों में लगता है, उस पर भी असर पड़ेगा.

भारत में कितना बड़ा है सट्टाबाजार
भारत का सट्टा बाजार दस लाख करोड़ या इससे अधिक रकम का है. ये लगातार तेजी से बढ़ रहा है. ज्यादातर सट्टेबाजी अंडरवर्ल्ड माफिया अपराधियों द्वारा संचालित होती है. वो किसी न किसी रूप में खेल और खिलाड़ियों दोनों को अपने तरीके से प्रभावित करने की कोशिश में लगे रहते हैं. अपने फायदे में मैचों को फिक्स भी कराने की कोशिश करते हैं.

किस तरह मिलेगा रोजगार
- क्रिकेट सट्टेबाजी सबसे बड़ी बेटिंग इंडस्ट्री का रूप ले सकती है. देश के हर शहर और कस्बों में न जाने सट्टेबाजी के कितने सेंटर हैं. जो अभी चोरी चुपके चलते हैं. अगर इसे लीगल किया तो हर शहर में इसके लाइसेंसी सेंटर खुलेंगे. अगर पूरे देश की बात करें तो लाखों लोगों को अलग अलग स्थितियों में रोजगार मिलेगा. इंग्लैंड में एक बेटिंग सेंटर में कर्मचारियों की संख्या 15 से 50 या और ज्यादा होती है. कई कंपनियों ने तो पूरे ब्रिटेन में अपनी ब्रांचेज खोल रखी हैं.
- इंडिया में रेसकोर्स में बेटिंग लीगल है. बताया जाता है कि देशभर के रेसकोर्स में पांच लाख लोगों को रोजगार मिलता है
- गोवा में कसीनो इंडस्ट्री में दस हजार से ज्यादा लोगों को रोजगार मिला हुआ है
- सिक्किम में कसीनो इंडस्ट्री में भी हजारों लोगों को इससे रोजगार हासिल हुआ है.

सट्टेबाजी लीगल टैक्स में कितना इजाफा होगा
- अनुमान है कि अगर इसे लीगल किया गया तो सरकार को सालाना 30 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम टैक्स के रूप में मिल सकती है. इस धन का उपयोग तमाम कल्याणकारी कामों में हो सकता है. देश में अकेले वन-डे क्रिकेट पर 200 मिलियन डॉलर से ज्यादा की रकम सट्टे पर लगाई जाती है. माना जाता है कि देश में क्रिकेट की इस सट्टेबाजी के तार दाऊद एंड कंपनी से जुड़े हैं. इससे मिलने वाला पैसा उसे मजबूत करता है.

क्या देश में किसी खेल में सट्टेबाजी वैध है
- हां, देशभर में हार्स रेसिंग में सट्टेबाजी वैध है. साथ गोवा, दमन और सिक्किम में कसीनो में सट्टेबाजी वैध है सिक्किम में आनलाइन गेमिंग को भी लीगल जामा पहनाया जा चुका है.

भारत के रेसकोर्स में हर साल कितने की लीगल सट्टेबाजी होती है
- देश में चार बड़े रेस कोर्स हैं. मुंबई, हैदराबाद, बेंगलुरु और कोलकाता. इसके अलावा चेन्नई, दिल्ली और कई स्थानों पर छोटे रेसकोर्स सेंटर हैं. इनमें हर साल 35 हजार करोड़ की सट्टेबाजी होती है. इससे पांच लाख लोगों को रोजगार भी मिलता है.

आनलाइन गेमिंग सट्टेबाजी क्या भारत में भी होती है
- भारत में ये अवैध है लेकिन इंटरनेट पर गेमिंग सट्टेबाजी की कई साइट्स हैं. बहुत सी इंटरनेशनल गैम्बलिंग वेबसाइट्स भारतीय नागरिकों को आनलाइन जुआ खेलने या सट्टेबाजी करने का निमंत्रण देती हैं. इसमें भी भारत से दस हजार करोड़ रुपये से कहीं ऊपर का सट्टा लगाया जाता है. अगर आप आनलाइन गैंबलिंग में पकड़ लिये गए तो 90 हजार का मोटा जुर्माना लगता है.

गोवा में सट्टेबाजी किस तरह लीगल है
- गोवा में कई कसीनो हैं. ये सभी सरकार की मंजूरी के बाद खोले जाते हैं. कसीनो में जो भी सट्टेबाजी होती है, उसका एक हिस्सा टैक्स के तौर पर सरकार के पास जाता है. गोवा में कसीनो इंडस्ट्री हजारों करोड़ की इंडस्ट्री बन चुकी है. गैम्बलिंग इंडस्ट्री से हजारों लोगों को रोजगार मिलता है. सिक्किम में दो कसीनो हैं, गोवा में दस. इसमें कुछ समुद्र में तैरते हुए जहाजों पर चलते हैं.

किन देशों में खेलों में सट्टेबाजी कानूनी है
- इंग्लैंड में सट्टेबाजी कानूनी है. वहां सबसे ज्यादा कानूनी सट्टेबाजी हार्स रेसिंग पर होती है. इसके बाद फुटबाल, क्रिकेट और रग्बी जैसे खेल आते हैं.
- फ्रांस में भी सट्टेबाजों से मिले टैक्स रूपी धन को स्पोर्ट्स गतिविधियों में मदद के लिए लगाया जाता है
- अमेरिका में कई खेलों और कई स्पोर्ट्स लीग में सट्टेबाजी लीगल है
- आस्ट्रेलियाई अखबार सिडनी मार्निंग हेराल्ड ने वर्ष 2010 के एक सर्वे के हवाले से रिपोर्ट प्रकाशित की, जिसमें कहा गया कि आस्ट्रेलिया की अर्थव्यवस्था को 11.1 बिलियन डॉलर यानि 51, 862 करोड़ रुपए का फायदा हुआ है, ये लाभ गैम्बलिंग से हुआ है.
- कनाड़ा में गैंबलिंग की कानूनी इंडस्ट्री 15 बिलियन डॉलर की है.

सट्टेबाजी को लीगल करने पर फायदा क्या होगा
बहुत हद तक सट्टेबाजी में लगने वाला धन आपराधिक जगत की तमाम गतिविधियों का हिस्सा बनता है. भारत जैसे देश में भी खेलों की सट्टेबाजी पर लगने वाले धन से सबसे ज्यादा फायदे में अंडरवर्ल्ड और माफिया रहते हैं, जो इस पैसे का इस्तेमाल न केवल आतंकवाद फैलाने में करते हैं बल्कि देश की अस्थिरता को भी बढ़ाते हैं.
इसके वैध होने से सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि सारा धन हिसाब किताब में रहेगा. इसके चैनल्स व स्रोत पता रहेंगे. ये हमेशा अवैध सट्टेबाजी की तुलना में ज्यादा सुरक्षित है. साथ ही मैच फिक्सिंग, खिलाड़ियों को गलत तरीके से फिक्सिंग में संलिप्त होने जैसी गतिविधियों पर रोक लगाई जा सकेगी. कुल मिलाकर खेलों के साफसुथरे होने की संभावना बढ़ जाएगी.

क्या हैं देश में सट्टेबाजी के अांकड़े (2015 तक)
- 264 लाख करोड़ करोड़ रुपए - दुनियाभर में खेलों की अवैध सट्टेबाजी की रकम 
- 9.9 लाख करोड़ रुपए -ृ भारत में सालाना अवैध सट्टेबाजी की रकम 
- 1500 करोड़ रुपए - एक वन-डे मैच के दौरान होने वाली अवैध सट्टेबाजी