महाराष्ट्र मेडल की दौड़ में आगे, दिल्ली और हरियाणा दूसरे तथा तीसरे स्थान पर

07

पुणे मेजबान महाराष्ट्र खेलो इंडिया यूथ गेम्स-2019 के तीसरे दिन शुक्रवार को कुल 32 गोल्ड के साथ मेडल तालिका में पहले स्थान पर पहुंच गया। महाराष्ट्र के अब तक कुल 91 मेडल हो गये हैं जिनमें से 32 गोल्ड, 24 सिल्वर और 35 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं। दिल्ली 24 गोल्ड, 17 सिल्वर और 20 ब्रॉन्ज मेडलों के साथ दूसरे जबकि हरियाणा 18 गोल्ड, 20 सिल्वर और 26 ब्रॉन्ज मेडल लेकर तीसरे स्थान पर है। महाराष्ट्र ने एथलेटिक्स में सात गोल्ड जीते हैं। तैराकी और कुश्ती में उसने तीन-तीन गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया जबकि जूडो और भरोत्तोलन में उसके हिस्से दो-दो गोल्ड आए। दिल्ली को तैराकी में चार गोल्ड मेडल मिले जबकि जूडोको में उसके हिस्से तीन सोने के तमगे आए। 

निशानेबाजी में एक बड़ा उलटफेर देखने को मिला जहां धनुष श्रीकांत ने दो बार के जूनियर विश्व कप ब्रॉन्ज मेडल विजेता पंजाब के अर्जुन बाबुता को हराकर पुरुषों की अंडर-21 में 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में गोल्ड मेडल जीता। तमिलनाडु के बालाकुमार नितिन ने शिव छत्रपति शिवाजी स्पोटर्स कॉम्पलेक्स एथलेटिक्स स्टेडियम में पुरुषों की अंडर-21 में 100 मीटर स्पर्धा में अपने सर्वश्रेष्ठ स्कोर की बराबरी की। नितिन ने 10.76 सेकंड का समय निकाला। चार अन्य धावक उनसे 11 सेकंड पीछे रहे। 

कर्नाटक के प्रज्वल मंदाना ने शुरु में बढ़त ले ली जिसे वह गंवा बैठे और उन्हें सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। लड़कों के अंडर-17 में निसार अहमद ने 100 मीटर का खिताब जीता। उन्होंने 10.96 सेकेंड का समय निकालते हुए जीत हासिल की। दिल्ली के अंशुल ने सिल्वर मेडल जीता तो वहीं आंध्र प्रदेश के भरत यादव ने ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया। कर्नाटक की एटी दानेश्वरी ने मादाली सुप्रिया को एक बार फिर हराकर अंडर-21 लड़कियों के वर्ग में 100 मीटर दौड़ जीती। दानेश्वरी ने 11.99 सेकेंड के साथ पहला स्थान पाया। तैराकी में दिल्ली की तैराकों का बोलबाला रहा। दिल्ली ने शुक्रवार को दांव पर लगे 11 गोल्ड में से चार अपने नाम किए जबकि कर्नाटक और महाराष्ट्र ने तीन-तीन गोल्ड जीते। तमिलनाडु को एक गोल्ड मिला। कुश्ती में हरियाणा ने खेलों के तीसरे दिन भी अपना दबदबा कायम रखा। उसके पहलवान अब तक कुल 11 गोल्ड जीत चुके वहैं। शुक्रवार को इन पहलवानों ने अपने खाते में पांच गोल्ड, छह सिल्वर और चार ब्रॉन्ज मेडल डाले। मणिपुर ने भारोत्तोलन में अपना दबदबा कायम रखा और दो गोल्ड अपने नाम किए लेकिन मेजबान महाराष्ट्र ने सबको चौंकाते हुए इतने ही मेडल अपने नाम कर अपनी स्थिति मजबूत की।