भारत को मिला 12वां गोल्ड

07

गोल्ड कोस्ट । कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय शूटर्स का जलवा कायम है। भारतीय नेिशानेबाज़ श्रेयसी सिंह ने भारत को महिलाओं की डबल ट्रैप स्पर्धा में 12वां गोल्ड मेडल दिला दिया है। इसके बाद पुरुष वर्ग में अंकुर मित्तल ने कांस्य पदक दिलाया है। अंकुर मित्तल ने मेडल शूटिंग डबल ट्रैप में जीता। श्रेयसी, अंकुर और ओम के मेडल के बाद शूटिंग में भारत ने कुल 11 मेडल जीत लिए हैं।

इससे पहले बुधवार की सुुबह शूटर ओम मिथरवाल ने 50 मीटर पिस्टल इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल पर निशाना लगाया। गेम्स के सातवें दिन भारतीय शूटर्स जीतू राय और ओम मिथरवाल 50 मीटर पिस्टल इवेंट में शामिल हुए। कॉमनवेल्थ गेम्स में अब भारत के 24 मेडल हो गए हैं। इनमे 12 गोल्ड, 4 सिल्वर और 8 ब्रॉन्ज मेडल शामिल है। पदक तालिका में भारत तीसरे नंबर पर बना हुआ है।

श्रेयसी का यह मुकाबला काफी रोमांचक रहा। ऑस्ट्रेलिया की शूटर एम्मा कॉक्स श्रेयसी से तीन राउंड तक आगे थीं, लेकिन चौथे राउंड में वह महज 18 प्वाइंट्स ही हासिल कर सकीं और उनका स्कोर दूसरी पोजिशन पर मौजूद भारत की श्रेयसी के बराबर हो गया। शूटऑफ में श्रेयसी ने अपने दोनों निशाने सटीक लगाए लेकिन ऑस्ट्रेलियाई शूटर अपना एक निशाना सही नहीं लगा सकीं। गोल्ड मेडल भारत के नाम हुआ। शूटिंग में यह भारत का चौथा गोल्ड रहा।

 

इसके साथ ही टेबल टेनिस: महिला युगल में सुर्तिथा मुखर्जी और पूजा की भारतीय जोड़ी ने मॉरिशस की रुकायाह किनोओ और संजना रामास्वामी को 11-3, 11-4, 11-4 से हराकर प्री क्वॉर्टर फाइनल में प्रवेश किया।

स्क्वैश: महिला युगल के पूल-सी के मुकाबले में जोशना चिनप्पा और दीपिका पल्लीकल की जोड़ी ने 11-8 से पहला गेम जीता।

पुरुष युगल के राउंड-32 के मुकाबले में भारत के शरथ कमल और साथियान की जोड़ी ने किरबाती के तौरामा और ताकोमो नोआ की जोड़ी को 11-2, 11-5, 11-6 से हराकर प्री क्वॉर्टर फाइनल में प्रवेश किया।ग्लास्गो कॉमनवेल्थ की सिल्वर मेडल विजेता सरिता देवी को क्वॉर्टर फाइनल में मिली हार। ऑस्ट्रेलिया की एनिया ने उन्हें 5-0 से हराया।

स्क्वैश के महिला युगल के पूल-सी के मुकाबले में जोशना चिनप्पा और दीपिका पल्लीकल की जोड़ी ने वेल्स की टेस्नी और डियोन की जोड़ी को 11-8, 7-11, 11-8 से हराकर अगले दौर में प्रवेश किया।

टेबल टेनिस में हरमीत और शंकर की भारतीय जोड़ी ने ब्रिट्टन और फ्रेंकलिन की जोड़ी को 11-6, 11-5, 11-7 से हराकर प्री-क्वॉर्टर फाइनल में प्रवेश किया।

महिलाओं की डबल ट्रैंप शूटिंग इवेंट में भारत की मेडल की उम्मीद बरकरार। श्रेयसी सिंह 3 राउंड के बाद 71 अंकों के साथ दूसरे नंबर पर हैं, जबकि उनके बाद तीसरे नंबर पर भारत की ही शूटर वर्षा वर्मन (67 अंक) हैं।

52 किग्रा भारवर्ग के बॉक्सिंग इवेंट में भारत के गौरव सोलंकी ने क्वॉटर फाइनल में पापुआ न्यू गिनी के चार्ल्स केमा को हराया। इसके साथ ही उनका मेडल पक्का हो गया है।

टेबल टेनिस में शरथ कमल और मौमा दास की मिक्स्ड डबल्स जोड़ी ने श्री लंका की जोड़ी को 11-6, 4-11, 11-9, 11-5 से हराकर प्री क्वॉर्टर फाइनल में प्रवेश किया।

वहीं मंगलवार को सात्विक साइराज रैंकीरेड्डी और अश्विनी पोनप्पा ने सिर्फ 20 मिनट में जीत दर्ज करके कॉमनवेल्थ गेम्स में बैडमिंटन की मिक्स्ड डबल्स स्पर्धा के दूसरे दौर में जगह बनाई। ओलंपिक रजत पदक विजेता पीवी सिंधू पर निगाहें टिकी रहेंगी। सात्विक और अश्विनी ने पहले दौर में गुए‌र्न्सी के स्टुअर्ट हार्डी और चोले लि टिसियर को 21-9, 21-5 से हराया। भारतीय जोड़ी ने दोनों गेम 10-10 मिनट में अपने नाम किए। यह भारतीय जोड़ी प्री-क्वार्टरफाइनल में जगह बनाने के लिए बुधवार को इंग्लैंड के बेन लेन और जेसिका पुग की जोड़ी से भिड़ेगी। मिक्स्ड टीम स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीतने वाले भारतीय खिलाड़ी बुधवार से व्यक्तिगत मुकाबलों में भी उतरेंगे, जहां उन्हें खास चुनौती मिलने की संभावना नहीं है।

भारतीय चुनौती की शुरुआत किदांबी श्रीकांत करेंगे। सिंधू टखने की चोट के कारण टीम स्पर्धा में नहीं खेल पाईं थीं, लेकिन मुख्य कोच पुलेला गोपीचंद के अनुसार वह अब पूरी तरह फिट हैं और महिला सिंगल्स में अपना अभियान शुरू करेंगी। महिला सिंगल्स में साइना नेहवाल को भी खास चुनौती मिलने की संभावना नहीं है। पुरुष सिंगल्स में एचएस प्रणय, जबकि महिला सिंगल्स में रुत्विका गाडे और मिक्स्ड डबल्स में प्रणव जेरी चोपड़ा और एन सिक्की रेड्डी की जोड़ी भी अपने अभियान की शुरुआत करेगी। 
स्क्वॉश में पाकिस्तान को हराया
 भारत की दीपिका पल्लीकल और जोशना चिनप्पा ने यहां स्क्वॉश के महिला डबल्स के पूल-सी मैच में पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 2-1 से मात दी। वहीं, मिक्स्ड टीम स्पर्धा में दीपिका और सौरव घोषाल की जोड़ी ने गुयाना पर भारत को 2-0 से जीत दिलाई। दीपिका-जोशना की विशेषज्ञ डबल्स टीम ने पाकिस्तान की जफर फैजा और जफर मदीना की टीम को 2-1 से हराया। भारतीय जोड़ी शुरुआती गेम सिर्फ नौ मिनट में ही 10-11 से गंवा बैठी, लेकिन दूसरे गेम में जबरदस्त वापसी करते हुए उसने सिर्फ चार मिनट में 11-0 से एकतरफा जीत दर्ज की। तीसरे और आखिरी गेम में भारतीय जोड़ी ने पांच मिनट में 11-1 से जीत दर्ज करते हुए मुकाबला भारत के नाम किया। मिक्स्ड डबल्स में दीपिका और सौरव की भारतीय जोड़ी ने 13 मिनट चले मैच में 11-3, 11-3 से जीत दर्ज की।
कांस्य से चूके अनस
भारत के मुहम्मद अनस याहया ने पुरुषों की 400 मीटर दौड़ में राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया, लेकिन वह मामूली अंतर से कांस्य पदक से चूक गए और चौथे स्थान पर रहे। अनस ने 45.31 सेकेंड के समय के साथ 45.32 सेकेंड के अपने ही पिछले रिकॉर्ड में मामूली सुधार किया। साल 1958 में दिग्गज धावक मिल्खा सिंह के बाद पहली बार कॉमनवेल्थ गेम्स की 400 मीटर दौड़ के फाइनल में कोई भारतीय धावक हिस्सा ले रहा था। अनस का प्रयास भले ही पदक के लिए पर्याप्त नहीं था लेकिन वह कांस्य पदक जीतने वाले जमैका के जेवन फ्रांसिस (45.11 सेकेंड) से 0.2 सेकेंड ही पीछे रहे।
फाइनल में हिमा
हिमा दास भी महिला 400 मीटर में 51.53 सेकेंड का अपना निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए फाइनल में जगह बनाने में सफल रहीं। वह सेमीफाइनल में तीसरे स्थान पर रहीं, जबकि फाइनल में जगह बनाने वाली आठ धावकों में उन्होंने सातवां सबसे तेज समय निकाला। उन्होंने अपने निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में 0. 44 सेकेंड का सुधार किया।