हैरी केन को मिला गोल्डन बूट का अवॉर्ड

07

इंग्लैंड की टीम भले ही फीफा विश्व कप में चौथे स्थान पर रही पर कप्तान हैरी केन टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा छह गोल कर गोल्डन बूट हासिल करने में सफल रहे.

फुटबॉल के इस महासमर के शुरू होने से पहले इंग्लैंड को बड़ा दावेदार नहीं माना जा रहा था, लेकिन केन ने अपने प्रदर्शन से टीम का मनोबल बढ़ाने के साथ सेमीफाइनल में भी पहुंचाया. उन्होंने छह मैच खेले और इतने ही गोल किए.

केन फुटबॉल विश्व कप में गोल्डन बूट जीतने वाले इंग्लैंड के दूसरे खिलाड़ी है. इससे पहले 1986 में मैक्सिको में हुए विश्व कप में गैरी लिनाकर ने गोल्डन बूट जीता था. लिनाकर ने भी छह गोल किए थे.

पुर्तगाल के कप्तान क्रिस्टियानो रोनाल्डो, बेल्जियम के रोमेलु लुकाकु, फ्रांस के एंटोनी ग्रीजमैन, फ्रांस के युवा सनसनी कीलियन एम्बाप्पे और रूस के डेनिस चेरीशेव चार गोल के साथ संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर रहे.

मौजूदा समय में फुटबॉल के सबसे बड़े खिलाड़ियों में शामिल अर्जेंटीना के लियोनेल मेसी और ब्राजील के नेमार विश्व कप में क्रमश: एक और दो गोल ही कर पाए.

कुर्टियोस को गोल्डन ग्लव्स

बेल्जियम के गोलकीपर थिबाउट कुर्टियोस को शानदार गोलकीपिंग के लिए गोल्डन ग्लव्स का पुरस्कार दिया गया. उन्होंने इस विश्व कप में सबसे ज्यादा 27 बचाव किए, जिसके कारण वह इस पुरस्कार के हकदार बने. बेल्जियम की टीम सेमीफाइनल तक पहुंची थी. उसने इंग्लैंड को मात देकर तीसरा स्थान हासिल किया.

मौजूदा समय में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ मिडफील्डर माने जाने वाले क्रोएशिया के लुका मोड्रिक को गोल्डन बॉल का पुरस्कार दिया गया. मोड्रिक ने टूर्नामेंट के सात मैचों में तीन गोल किए.

पुरस्कार वितरण समारोह में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, फीफा के अध्यक्ष गियानी इन्फैंटिनो और क्रोएशिया की राष्ट्रपति कोलिंदा ग्रैबर मौजूद रहीं.

फीफा वर्ल्ड कप 2018 किसके कितने गोल

1. हैरी केन (इंग्लैंड) - 6 गोल (गोल्डन बूट विनर)

2. कीलियन एम्बाप्पे (फ्रांस) -  4 गोल

3. एंटोनी ग्रीजमैन (फ्रांस)- 4 गोल

4. क्रिस्टियानो रोनाल्डो (पुर्तगाल) - 4 गोल

5. डेनिस चेरीशेव (रूस)- 4 गोल

6. रोमेलु लुकाकु (बेल्जियम)- 4 गोल

आखिरी 4 वर्ल्ड कप में गोल्डन बूट विनर

वर्ल्ड कप 2018: हैरी केन (इंग्लैंड) - 6 गोल

वर्ल्ड कप 2014: जेम्स रोड्रिगेज (कोलंबिया) - 6 गोल

वर्ल्ड कप 2010: थॉमस मुलर (जर्मनी) - 5 गोल

वर्ल्ड कप 2006: मिरोस्लाव क्लोज (जर्मनी) - 5 गोल

वर्ल्ड कप 2002: रोनाल्डो (ब्राजील) -  8 गोल