उत्तर प्रदेश की इन बेटियों ने एथलेटिक्स में लोहा मनवाया

07

खेलों में उत्तर प्रदेश की बेटियों का जलवा रहा। लखनऊ हॉस्टल की पूर्व एथलीट रायबरेली की सुधा सिंह ने मुंबई मैराथन का खिताब लगातार तीसरी बार जीतकर खिताब हैट्रिक की। वहीं, मेरठ की पारुल चौधरी ने मुंबई मैराथन में 12 किलोमीटर की दौड़ में स्वर्ण पदक जीता।

यही नहीं, तेलंगाना में हुई राष्ट्रीय क्रासकंट्री में बाराबंकी की कविता यादव ने 10 किलोमीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीतकर सबको हैरत में डाल दिया। राष्ट्रीय क्रासकंट्री में ही लखनऊ हॉस्टल की काजल शर्मा ने अंडर-20 में रजत पदक जीता।

सुधा सिंह ने फुल मेराथन के भारतीय एलीट वर्ग में 2 घंटा 45 मिनट 30 सेकंड का समय लेकर पहला स्थान हासिल किया। उनका यह लगातार तीसरा और ओवरऑल चौथा खिताब है। ऐसा कमाल दिखाने वाली वह देश की पहली महिला एथलीट हैं। उत्तर प्रदेश की ही रीतू पाल चौथे स्थान पर रहीं।

मेरठ की रहने वाली पारुल चौधरी ने मुंबई मैराथन की 21 किलोमीटर दौड़ में पहला स्थान हासिल किया। उन्होंने 1 घंटा 15 मिनट 37 सेकंड का समय इस दौड़ को पूरा करने में लिया। बाराबंकी के दुलहदेपुर की रहने वाली कविता यादव ने तेलंगाना में रविवार को हुई राष्ट्रीय क्रासकंट्री चैंपियनशिप में महिला वर्ग की 10 किमी दौड़ में स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने 35 मिनट 44 सेकंड का समय दर्ज किया। किसान राजकरन और देवी की बेटी कविता 2012 में लखनऊ हॉस्टल में दाखिल हुई थीं। लखनऊ हॉस्टल की काजल शर्मा ने भी राष्ट्रीय क्रासकंट्री में धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए बालिका अंडर-20 की 8 किलो मीटर की दौड़ में रजत पदक जीता।