पवन सिंह ओलंपिक्स के लिए चुने जाने वाले पहले भारतीय शूटिंग जज

07

पवन सिंह ने अपनी तीसरी पारी में शूटिंग के लिए ओलंपिक में जगह बनाई है। चतुर्वर्षीय गेम्स के लिए शूटर और कोच के रूप में जगह बनानें में विफल रहने के बाद, भारतीय खिलाड़ी ने आखिरकार आईएसएसएफ जूरी सदस्य के रुप में ओलंपिक में प्रवेश किया है।इंटरनेशनल स्पोर्ट शूटिंग फेडरेशन (आईएसएसफ) ने शुक्रवार को पवन को 2020 टोक्यो ओलंपिक के तक के लिए काम करने के लिए चुना।पवन ने 2017 में दिल्ली में आईएसएसएफ विश्व कप के साथ अंतरराष्ट्रीय मैचों में काम करना शुरु किया। उनके काम के ऊपर आईएसएसएफ ने नजर रखी और उसके बाद उन्हे मौके मिलने शुरु हुए और अंतरराष्ट्रीय निकाय में बड़े इवेंट में काम मिलने लग गया।

अगले साल अगस्त में, 40 वर्षीय, पवन ओलंपिक खेलों में भाग लेने वाले पहले भारतीय शूटिंग अधिकारी बन जाएंगे। वह 2020 खेलों में परिणाम, टाइमिंग और स्कोर (आरटीएस) जूरी सदस्य की चार सदस्यीय टीम का हिस्सा होंगे।पवन, जो राष्ट्रीय राइफल एसोसिएसन के संयुक्त सचिव हैं, उन्होने कहा, ” मैंने 1995 में एक शूटर के रुप में शुरुआत की थी और मैंने स्टेट और नेशनल चैंपियनशिप में पदक जीते है। हर किसी की तरह, मेरा भी सपना था कि मैं ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधत्व करुं। लेकिन 2005 में घर की आर्थिक स्थिती ठीक ना होने पर मैंने अभ्यास करना छोड़ दिया था।यह मेरे लिए एक सपने के सच होने जैसा है। मैं अच्छा महसूस कर रहा हूं जो काम मैंने पहले किया है उसके लिए मुझे फल मिला है। लेकिन यह सब कुछ एनआरआई के अध्यक्ष रनिंदर सिंह सिंह के समर्थन और दिशा निर्देश के बिना असंभव नही था।”

एक एथलीट के रूप में चतुर्भुज खेलों का हिस्सा बनने की उनकी खोज अधूरी रह गई। लेकिन उन्होंने इसे खत्म नहीं किया।पवन ने कहा, ” मैंने 2005 के बाद कोचिंग देनी शुरु कर दी थी उसके बाद 2007 में मैं टीम इंडिया के सहायक कोच के रुप में काम कर रहा था।मैं यहा से दोबारा खेलने का सपना देख रहा था।”“लेकिन मैं उस समय के रूप में 2012 के खेलों से पहले कोच के रूप में सेवानिवृत्त हुआ, मुझे इस मजबूत खेल को जमीनी स्तर पर ले जाने का आग्रह था।”उन्होने उसके बाद कांस्य पदक विजेता गगन नारंग के साथ मिलकर पुणे में एक गन फॉर गलोरी करके अकादमी खोली थी।पवन ने कहा, “मैंने तब झिड़कना शुरू किया और जूरी बन गया और आईएसएसएफ पाठ्यक्रम पूरा कर लिया। यह मेरी तीसरी पारी थी।”पिछले साल, वह 22 प्रतियोगियों के बीच दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा वोट पाकर आईएसएफएफ न्यायाधीश कमेटी मेंबर बनने वाले पहले भारतीय बन गए।पवन ने कहा, ” मुझे खुशी है कि आखिरकार मुझे आधिकारिक तौर पर विश्व के सबसे बड़े स्पोर्ट इवेंट में काम करने का मौका मिल गया है।