इन बल्लेबाजों पर टिकी हैं भारतीय टीम की उम्मीदें

07

नई दिल्ली। तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारतीय टीम पूरी तरह से तैयार है। विराट की कप्तानी में पहली बार भारतीय टीम द. अफ्रीका के खिलाफ शुक्रवार से टेस्ट सीरीज का आगाज करेगी। भारतीय टीम लगातार 9 टेस्ट मैचों की सीरीज जीत चुकी है और उसकी नजर अब इस टेस्ट सीरीज को जीतकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने पर होगी लेकिन ये इतना आसान लगता नहीं है। प्रोटीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज में भारतीय बल्लेबाजों की जमकर परीक्षा होगी जिन्होंने भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट में खूब रन बनाए हैं। 

विराट कोहली-

भारतीय कप्तान विराट कोहली इस वक्त भारतीय बल्लेबाजी की सबसे अहम कड़ी हैं। क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में वो जमकर रन बना रहे हैं। विराट ने द. अफ्रीका में अब तक सिर्फ दो टेस्ट मैच खेले हैं और इनमें उन्होंने 68 की औसत से 272 रन बनाए हैं। उनके नाम यहां पर एक शतक और एक अर्धशतक है साथ ही उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 119 रन है। विराट से इस दौरे पर भी टीम इंडिया को काफी उम्मीदें हैं। 

अजिंक्य रहाणे-

तकनीकी रूप से बेहद मजबूत अजिंक्य इन दिनों भारतीय टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। वनडे में उन्हें ज्यादा मौका नहीं मिला है हाल-फिलहाल टेस्ट मैचों में उनका प्रदर्शन उतना प्रभावित नहीं कर पाया लेकिन द. अफ्रीका में रहाणे ने अब तक खेले दो टेस्ट मैचों में 69.66 के बेहद शानदार औसत से 209 रन बनाए हैं। द. अफ्रीका में टेस्ट में वो एक भी शतक नहीं लगा पाए हैं जबकि दो अर्धशतक उनके नाम पर है। यहां पर टेस्ट में उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 96 रन है। 

चेतेश्वर पुजारा-

भारतीय टेस्ट टीम के मध्यक्रम के बल्लेबाज पुजारा को द. अफ्रीका में सिर्फ 4 टेस्ट मैच खेलने का  अनुभव है। इन मैचों में उन्होंने 44.42 की औसत से कुल 311 रन बनाए हैं। यहां पर उनका टेस्ट में सर्वाधिक स्कोर 153 रन है। उनके नाम पर एक शतक और एक अर्धशतक है। टेस्ट में भारत के लिए कमाल का प्रदर्शन करने वाले पुजारा पर क्रिकेट फैंस की नजरें जरूर टिकी रहेगी। 

मुरली विजय-

भारतीय टीम के शानदार ओपनर बल्लेबाज मुरली विजय से भारतीय टीम को शानदार शुरुआत की उम्मीद रहेगी। विजय ने द. अफ्रीका में अब तक सिर्फ तीन टेस्ट मैच खेले हैं और इन मैचों में उनके नाम पर 176 रन है। उनका औसत यहां पर 29.33 का रहा है। उनका सर्वाधिक स्कोर 97 रन है। 

शिखर धवन-

शिकर धवन द. अफ्रीका में पहली बार कोई टेस्ट सीरीज खेलेंगे। उनके लिए ये दौरा प्रदर्शन के लिहाज से काफी अहम रहने वाला है। धवन का फॉर्म इन दिनों अच्छा रहा है लेकिन अफ्रीका के बाउंसी ट्रैक पर उनके लिए रन बनाना उनके लिए बड़ी चुनौती रहने वाली है। वैसे धवन ने भारत में द. अफ्रीका के खिलाफ चार टेस्ट मैच खेले थे लेकिन उनका प्रदर्शन औसत ही रहा था। 

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच तीन टेस्ट सीरीज़ का पहला मुकाबला 05 जनवरी से केप टाउन में होना है. भारतीय क्रिकेट टीम इस दक्षिण अफ्रीकी ज़मीन पर अभी तक एक भी टेस्ट सीरीज़ जीत नहीं पाई है. लेकिन इस बार टीम इंडिया नं-1 टीम की हैसियत से सीरीज़ का आगाज़ करने जा रही है.साउथ अफ्रीका की पिच तेज़ और उछाल भरी है इसलिए टीम इंडिया के लिए ये दौरा कठिन माना जा रहा है. इस दौरे पर भारतीय टीम 25 साल के इतिहास को बदलने उतरेगी. भारत और साउथ अफ्रीका के बीच तीन टेस्ट, 6 वनडे और तीन टी-20 मैचों की सीरीज़ के खेली जानी है.

दक्षिण अफ्रीकी पिच क्यूरेटर की मानें तो पानी की कमी के कारण पिछले हफ्ते 2 ही बार पिच पर पानी डाला गया है। इस कारण पिच पहले जैसी कठोर नहीं है। पहले दिन पिच से गेंदबाजों को थोड़ा-बहुत बाउंस और स्विंग मिल सकता है लेकिन मैच जैसे-जैसे आगे बढ़ेगा वैसे-वैसे पिच धीमी होती जाएगी। आपको बता दें कि दक्षिण अफ्रीका में सूखे के कारण पिच पर तय सीमा से ज्यादा पानी डालने पर पाबंदी लगा रखी है। यही वजह है कि न्यूलैंड्स की पिच को भारत के लिए अच्छी माना जा रहा है।हालांकि इसी मैदान पर दक्षिण अफ्रीका पिछले कई सालों से लगातार जीत रहा है। इस मैदान पर साल 2003 के बाद से दक्षिण अफ्रीका के रिकॉर्ड की बात करें तो टीम को सिर्फ 2 ही मैचों में हार मिली है और दोनों बार टीम को ऑस्ट्रेलिया ने हराया है। दक्षिण अफ्रीका ने 2003 से लेकर अब तक इस मैदान पर कुल 20 मैच खेले हैं। इस दौरान टीम को 13 में जीत, 2 में हार मिली है और 5 मुकाबलों का कोई नतीजा नहीं निकल सका। एक तरफ इस मैदान पर दक्षिण अफ्रीका का रिकॉर्ड शानदार है तो वहीं भारतीय टीम का रिकॉर्ड बेहद खराब है। भारत ने इस मैदान पर अब तक कुल 4 मैच खेले हैं इस दौरान टीम एक मैच भी नहीं जीत सकी है। भारत को 2 में हार मिली है जबकि 2 मुकाबलों का कोई नतीजा नहीं निकल सका।