लंबे बल्ले से नहीं खेल पाएंगे क्रिकेटर

07

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने डिसीज़न रिव्यू सिस्टम समेत खेल के कई नियमों में बदलाव किए हैं.आईसीसी के बयान के अनुसार, इन बदलावों में बल्ले के आकार को फिर से परिभाषित किया गया है.इसके अलावा दुर्व्यवहार के चलते खिलाड़ियों को मैदान से बाहर भेजने के नियम भी कड़े किए गए है.अंततराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों में 28 सितम्बर या इसके बाद होने वाले मैचों के लिए ये बदलाव लागू होंगे.आगामी टेस्ट सिरीज़ दक्षिण अफ़्रीका और बांग्लादेश में और पाकिस्तान और श्रीलंका में खेले जाने हैं.इन बदलावों को एमसीसी लाज़ फ़ार क्रिकेट (2017 कोड) के संबंधित प्रावधानों में शामिल किया जाएगा, इसका मतलब है कि क्रिकेट मैच के सभी प्रारूपों के लिए ये नए नियम लागू होंगे.आईसीसी जनरल मैनेजर (क्रिकेट), जेफ़ अलार्डिस ने कहा कि 'हमने अंपायरों के साथ मिलकर नियमों पर चर्चा की और अब हम इन्हें लागू करने के लिए तैयार हैं.'

1- बल्ले का आकारः

बल्ले और गेंद के बीच संतुलन लाने के लिए, बल्लों के आकार, उनके किनारों और उनकी मोटाई को फिर से निर्धारित किया गया है.हालांकि बल्ले की लंबाई और चौड़ाई में कोई बदलाव नहीं किया गया है लेकिन किनारों की मोटाई 40 मिलीमीटर से अधिक नहीं होना चाहिए और बैट की सपाट सतह और तिकोने के बीच की मोटाई 67 मिलीमीटर से अधिक नहीं होनी चाहिए.बल्ले का हत्था, पूरी लंबाई के 52 प्रतिशत से अधिक नहीं होना चाहिए.अंपायरों को ये सूचनाएं भेजी जाएंगी ताकि वो मैदान पर बल्ले की जांच कर सकें.

2- खिलाड़ियों का व्यवहारः

खिलाड़ियों के व्यवहार को लेकर बने नए नियमों के अनुसार, अब गंभीर दुर्व्यवहार के लिए किसी खिलाड़ी को बाकी मैच के लिए भी मैदान से बाहर रखा जा सकता है.इसका मतलब ये हुआ कि अब गंभीर दुर्व्यवहार का मामला लेवल-4 में आ जाएगा.

3-रन आउटः

सबसे अहम बदलाव रन आउट के मामले में किया गया है. इसके तहत अगर बल्लेबाज़ आगे की ओर दौड़ रहा है या गोता लगा रहा है और ऐसे समय उसका बल्ला लाइन के तो पार हो जाता है लेकिन गिल्ली उड़ने के समय उसका शरीर हवा में हो तो उसे रन आउट नहीं दिया जा सकेगा. आउट होने से बचने के लिए अपने विकेट की ओर वापस आने वाले बल्लेबाज़ों के मामले में भी यही नियम लागू होगा.

4- बाउंड्री कैचः

मैदान की सीमा पर कैच पकड़ने के मामले में अब खिलाड़ी को बाउंड्री के अंदर से ही बॉल को हवा में पकड़ना होगा, नहीं तो इसे बाउंड्री मान लिया जाएगा.इसके अलावा फ़ील्डर या विकेट कीपर के हेलमेट से गेंद बाउंस होने के बाद भी बल्लेबाज़ कैच आउट, स्टंप आउट या रन आउट हो सकते हैं.