चेतेश्वर पुजारा की कामयाबी के पीछे उनकी मां का है बड़ा हाथ

07

भारतीय क्रिकेट टीम के टॉप प्लेयर्स की फेहरिस्त में शुमार 'द वॉल' चेतेश्वर पुजारा का आज जन्मदिन है. 25 जनवरी, 1988 को गुजरात के राजकोट में जन्मे पुजारा आज अपना 30वां जन्मदिन मना रहे हैं. चेतेश्वर के पिता अरविंद पुजारा और चाचा बिपिन पुजारा रणजी खेल चुके हैं. चेतेश्वर की कामयाबी में उनकी मां रीमा पुजारा का अहम योगदान है. वह कभी अपनी दिवंगत मां को अपनी सफलता का श्रेय देना नहीं भूलते. साल 2013 में चेतेश्वर ने गुजरात की रहने वाली पूजा पाबरी से शादी थी. पूजा और चेतेश्वर जल्द ही मम्मी-डैडी बनने वाले हैं.

चेतेश्वर पुजारा भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के एक जाने पहचाने नाम हैं। 25 जनवरी 1988 को राजकोट में जन्मे पुजारा के करियर में उनकी मां रीना का बड़ा योगदान रहा है। लेकिन उनकी मां पुजारा की कामयाबी नहीं देख पाई। पुजारा जब 17 साल के थे तभी उनकी मां की निधन हो गया था। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पुजारा जब क्रिकेट मैच खेलने के लिए स्टेडियम पहुंचे तो उन्हें मां की मौत की खबर मिली। कैंसर की वजह से उनकी मां की मौत हुई थी।

चेतेश्वर पुजारा का पूरा नाम चेतेश्वर अरविन्द पुजारा है। मात्र ढाई वर्ष की उम्र में ही चेतेश्वर पुजारा को बल्लेबाजी करते देखकर उनके पिता जी ने चेतेश्वर को खिलाड़ी बनाना का निश्चय किया।

साल 2000-01 में चेतेश्वर पुजारा अंडर-14 क्रिकेट टीम में चुने गए। उन्होंने मुंबई के खिलाफ 138 और बड़ौदा के खिलाफ शानदार 306 रन बनाए जो उस समय एक रिकार्ड था। साल 2005 में चेतेश्वर पुजारा एक क्रिकेट मैच खेल रहे थे तभी उनके पास खबर आई कि उनकी मां का देहान्त हो गया।

साल 2005 में चेतेश्वर पुजारा ने इंग्लैंड के खिलाफ अपना पहला अंडर-19 मैच खेलते हुए शानदार 211 रन बनाए।

साल 2006 में अंडर-19 विश्व कप मैच में चेतेश्वर पुजारा के शानदार प्रदर्शन के कारण उन्हें टूर्नामेंट का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी घोषित किया गया। साल 2008 से साल 2013 के बीच प्रथम श्रेणी क्रिकेट में चेतेश्वक पुजारा ने तीन तिहरे शतक बनाए।

चेतेश्वर पुजारा प्रथम श्रंणी क्रिकेट में खेलते हुए एक ही महीने में तीन तिहरे शतक बनाने वाले दुनिया के एकमात्र बल्लेबाज हैं। साल 2010 में चेतेश्वर पुजारा ने अपना पहला टेस्ट मैच ऑस्ट्रेलिया के भारत दौरे के दौरान खेला।

साल 2012 में चेतेश्वर पुजारा ने भारतीय टीम में वापसी करते हुए न्यूजीलैंड के खिलाफ 159 रनों की शानदार पारी खेली। चेतेश्वर पुजारा टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 1000 रन पूरे करने वाले भारतीय खिलाड़ी बने।

वर्तमान में दक्षिण अफ्रीका में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच के दौरान चेतेश्वर पुजारा ने एक टेस्ट मैच की दोनों पारियों में रन आउट होने का अनचाहा रिकार्ड बनाया। टेस्ट क्रिकेट में सबसे धीमे खेलने वाले चेतेश्वर पुजारा दूसरे भारतीय खिलाड़ी बने।