टीम में चयन के लिए कॉल गर्ल की होती थी मांग

07

नई दिल्ली.  आईपीएल के चेयरमैन राजीव शुक्ला के एग्जिक्युटिव असिस्टेंट मोहम्मद अकरम सैफी पर सिलेक्शन के लिए लड़की मांगने का सनसनीखेज आरोप लगा है. इन आरोप को उत्तर प्रदेश क्रिकेट असोसिएशन ने सिरे से खारिज किया है। आईपीएल चेयरमैन राजीव शुक्ला के एग्जीक्यूटिव असिस्टेंट मोहम्मद अकरम सैफी पर युवा क्रिकेटर राहुल शर्मा ने सिलेक्शन के लिए लड़की की मांग करने का आरोप लगाया है. क्रिकेटर ने अपने आरोप में कहा कि सैफी बीसीसीआई के एज-ग्रुप मैच में खिलाने के लिए खिलाड़ियों को फर्जी प्रमाणपत्र भी मुहैया कराते हैं।इस बारे में एक न्यूज चैनल ने ऑडियो टेप भी जारी किया है। इसमें एक शख्स लड़की को होटल भेजने की बात कह रहा है, जिसे सैफी बताया गया है। यही नहीं, उस न्यूज चैनल पर कुछ अन्य क्रिकेटरों ने भी सैफी पर टीम में सिलेक्ट किए जाने को लेकर रिश्वत मांगने का आरोप भी लगाया।

क्या है पूरा मामला?
उत्तर प्रदेश क्रिकेट असोसिएशन में उस वक्त हंगामा खड़ा हो गया, जब संघ के पूर्व सेक्रेटरी और मौजूदा आईपीएल चेयरमैन राजीव शुक्ला के एग्जीक्यूटिव असिस्टेंट मोहम्मद अकरम सैफी पर युवा क्रिकेटर राहुल शर्मा ने सिलेक्शन के लिए लड़की की मांग करने का आरोप लगा दिया। क्रिकेटर ने अपने आरोप में कहा कि सैफी बीसीसीआई के एज-ग्रुप मैच में खिलाने के लिए खिलाड़ियों को फर्जी प्रमाणपत्र भी मुहैया कराते हैं। 

इस बारे में एक न्यूज चैनल ने ऑडियो टेप भी जारी किया है। इसमें एक शख्स लड़की को होटल भेजने की बात कह रहा है, जिसे सैफी बताया गया है। यही नहीं, उस न्यूज चैनल पर कुछ अन्य क्रिकेटरों ने भी सैफी पर टीम में सिलेक्ट किए जाने को लेकर रिश्वत मांगने का आरोप भी लगाया। 

सीईओ और सेक्रेटरी का क्या है कहना?
संघ के सीईओ दीपक ने ऐसे किसी भी मामले से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि मेरे सामने अब तक ऐसी कोई बात सामने नहीं है। दूसरी ओर, सेक्रेटरी युद्धवीर सिंह का कहना है कि इस नाम का कोई भी लड़का हमारे लिस्ट में है ही नहीं। जब यह मामला मेरे सामने आया तो मैं चौंक गया और पिछले 5 सालों का रेकॉर्ड खंगालने लगा। मैंने पाया कि ऐसा कोई भी लड़का हमारे यहां खेला ही नहीं। हालांकि, हमने इस बारे में बीसीसीआई को जानकारी दे दी है। इसकी जांच के लिए हम तैयार हैं। 

आरोपों पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा, 'मैं तो सबसे पहले यह जानना चाहता हूं कि आरोप लगाने वाला लड़का क्रिकेट खेलता है या लड़कियां सप्लाई करने का धंधा खोल रखा है।' साथ ही उन्होंने सिलेक्शन प्रॉसेस का जिक्र करते हुए कहा कि हमारे यहां हर लड़के को सिलेक्शन प्रक्रिया में आने पर कम से कम 15 मैच खेलने पड़ते हैं। 

हैरान हैं यूपी के पूर्व कप्तान कैफ
भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी और उत्तर प्रदेश के कप्तान रहे मोहम्मद कैफ ने कहा कि वह ऐसे आरोपों से स्तब्ध हैं। उन्होंने इसकी जांच की मांग की। उन्होंने ट्वीट किया, ‘उत्तर प्रदेश क्रिकेट में भ्रष्टाचार के स्तर से स्तब्ध हूं। युवा खिलाड़ियों से घूस मांग कर उनके कौशल को प्रभावित किया जा रहा है।' 

युवा क्रिकेटर चाहते हैं मामले की जांच हो

 दूसरी ओर, कुछ युवा क्रिकेटरों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि अगर आरोप लगे हैं तो जांच होनी ही चाहए। यूपीसीए दूध का धुला नहीं है। अधिकारी टीम सिलेक्शन में मनमानी करते हैं। एक क्रिकेटर ने बताया कि राजीव शुक्ला की वजह से सैफी का दखल यूपीसीए में कुछ ज्यादा ही है। सिलेक्शन पर भी उनका प्रभाव रहता है।