महिला एकल फाइनल में पहुंच सिंधू ने रचा इतिहास

07

जकार्ता : पीवी सिंधु ने 18वें एशियाई खेलों में सोमवार को बैडमिंटन के सेमीफाइनल में जापान की अकाने यामागुची को 21-17, 15-21, 21-10 से हरा दिया. वे एशियाड में बैडमिंटन के 56 साल के इतिहास में खिताबी मुकाबले में जगह बनाने वाली पहली भारतीय बनीं. फाइनल में सिंधु का मुकाबला चीनी ताइपे की ताई जू युंग से होगा. सोमवार को 18वें एशियाई खेलों की बैडमिंटन स्पर्धा के महिला एकल स्वर्ण पदक मुकाबले में पहुंचकर इतिहास रच दिया.

वहीं भारत की अग्रणी महिला बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल को 18वें एशियाई खेलों में सोमवार को महिला एकल के सेमीफाइनल मुकाबले में हार मिली.साइना को चीनी ताइपे की खिलाड़ी वर्ल्ड नंबर-1 ताई जु यिंग ने सीधे गेमों में 21-17, 21-14 से मात दी. इस हार के कारण वह फाइनल में प्रवेश से चूक गईं. हालांकि उन्हें कांस्य पदक हासिल हुआ है. यह मुकाबला महज 36 मिनट तक चला.यह वर्ल्ड नंबर-10 साइना का न सिर्फ एशियाई खेलों में यह पहला पदक है, बल्कि महिलाओं के बैडमिंटन में भारत का यह पहला व्यक्तिगत पदक है.

गलत फूटवर्क का खामियाजा भुगती सायना

सायना को मैच में कई बार गलत फूटवर्क का खामियाजा भी भुगतना पड़ा और वह 10-11 से पिछड़ गयीं. हालांकि 10वीं रैंक भारतीय खिलाड़ी ने लंबी रैली खेलते हुये जू यिंग के खिलाफ लगातार अंक जुटाये. वह मैच में बने रहने के लिये एक-एक अंक जुटाने को जूझती दिखीं. उन्होंने कई बार स्कोर बराबरी का प्रयास किया, लेकिन गलतियों से वह 14-21 से गेम और 36 मिनट में मैच गंवा बैठीं. सेमीफाइनल मुकाबला गंवाने के साथ उन्हें कांस्य से संतोष करना पड़ा.