कायम है कुंबले का अंतरराष्‍ट्रीय रिकॉर्ड

07

नई दिल्ली: आजकल एक पारी में 10 विकेट लेने कोई पुरानी बात नहीं रही है. इन दिनों घरेलु क्रिकेट भी ऐसी उपलब्धि हासिल की जा रही है. इस साल भारत में ही दो खिलाड़ियों ने घरेलु क्रिकेट में यह मुकाम हासिल किया, लेकिन एक पारी में दस विकेट की बात होती है तो भारत के दिग्गज लेग स्पिनर अनिल कुंबले का नाम सबकी जुबां पर आ ही जाता है. ऐसा इसलिए कि कुंबले ने यह कारनामा टेस्ट क्रिकेट में किया था और उनसे पहले ऐसा केवल एक बार हुआ था उनके बाद टेस्ट क्रिकेट में कोई ऐसा नहीं कर सका है. कुबले ने 7 फरवरी को 1999 में टेस्ट क्रिकेट की एक पारी में 10 विकेट लिए थे, वह भी पाकिस्तान के खिलाफ. 

कुंबले ने 1999 में पाकिस्तान के भारत दौरे के दूसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन दूसरी पारी में 10 विकेट अपने नाम किए थे. इससे पहले ऐसा कारनामा इंग्लैंड के जिम लेकर ही कर पाए थे. जिम लेकर ने 1956 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यह रिकॉर्ड बनाया था. उसके बाद घरेलु क्रिकेट में कुछ खिलाड़ियों ने एक पारी में 10 विकेट जरूर लिए, लेकिन टेस्ट क्रिकेट में यह मुकाम केवल कुंबले ही हासिल कर सके. यह संयोग ही कहा जाएगा कि जब कुंबले के रिकॉर्ड की 20वीं सालगिरह मनाई जा रही है, उसी साल घरेलु क्रिकेट में दो बार ऐसे मौके आए जब किसी खिलाड़ी ने एक पारी में 10 विकेट लिए. पिछले साल सीके नायडू ट्रॉफी में 19 साल के सिदक सिंह ने पांडुचेरी के लिए खेलते हुए 10 विेकट लिए थे. और उसके बाद कूच बेहार ट्रॉफी में मणिपुर के रेक्स राजकुमार सिंह ने एक पारी में 10 विकेट लिए थे. 

पाकिस्तान को दूसरी पारी में जीत के लिए 420 रनों का लक्ष्य मिला था. दो दिन का खेल बाकी था. लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान की टीम ने बिना किसी नुकसान के 101 रन बना लिए थे. यहां से उसे 319 रन बनाने थे, लेकिन तभी अनिल कुंबले ने एक-एक कर पाकिस्तानी खिलाड़ियों को आउट करना शुरू कर दिया और देखते ही देखते उन्होंने पाकिस्तान के 10 विकेट झटक लिए. 101 रन बनाते तक पाकिस्तान की टीम का एक भी विकेट नहीं गिरा था, तब लग रहा था कि पाकिस्तानी टीम शायद 420 का आंकड़ा पा लेगी. पाकिस्तान को भी यही उम्मीद थी, लेकिन अनिल कुंबले ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेरते हुए 101 के स्कोर पर पहला विकेट चटकाते हुए भारत का खाता खोला. इसके बाद पूरी पाकिस्तानी टीम मिलकर मात्र 207 रन ही बना सकी और कुंबले ने उनके सभी 10  विकेट झटक लिए.

कुंबले ने अपने करियर का पहला वनडे मैच 25 अप्रैल 1990 में श्रीलंका के खिलाफ खेला था और आखिरी वनडे मैच 19 मार्च 2007 में बरमूडा के खिलाफ खेला था. टेस्ट क्रिकेट में कुंबले ने 9 अगस्त 1990 में पहला मैच इंग्लैंड के खिलाफ खेला था और आखिरी टेस्ट मैच 29 अक्टूबर 2008 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ था. भारत की ओर से 500 विकेट लेने वाले वह पहले खिलाड़ी हैं. कुंबले ने टेस्ट क्रिकेट में कुल 619 विकेट लिए और वे तीसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी हैं. उनके नाम वनडे क्रिकेट में 337 विकेट हैं. वे भारत की ओर से सबसे अधिक 956 इंटरनेशनल विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं. टेस्ट क्रिकेट में उनसे ज्यादा विकेट सिर्फ दो गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन (1347) और शेन वार्न (1001) ही ले सके हैं. मुरलीधरन ने 800 टेस्ट, 534 वनडे और 13 टी20 विकेट लिए हैं. वार्न ने टेस्ट में 708 और वनडे में 293 विकेट झटके हैं. टेस्ट विकेटों में कुंबले से पीछे इंग्लैडं के जेम्स एंडरसन हैं जिन्होंने अब तक 572 टेस्ट विकेट लिए हैं.