पद्म श्री के लिए श्रीकांत के नाम की सिफारिश

07

पांच महीनों में चार सुपर सीरीज टाइटल जीत कर सुर्खियां बटोरने वाले बैडमिंटन खिलाड़ी किदाम्बी श्रीकांत ने  बातचीत की और खेलों के भविष्य पर अपनी राय ज़ाहिर की.कई बार खिलाड़ी संन्यास लेने के बाद कोच बन जाते हैं. चीन और इंडोनेशिया जैसे देशों में ऐसा अक्सर देखने को मिलता है. ऐसे में क्या भारत में भी खिलाड़ियों को कोच के तौर पर ​करियर चुनना चाहिए?इस मामले पर किदाम्बी श्रीकांत मानते हैं, ''भारत में मज़बूत खिलाड़ी बनाने के लिए खिलाड़यों को भविष्य में कोच के तौर पर करियर अपनाने पर सोचना चाहिए.''साथ ही किदाम्बी कहते हैं कि भारत में अपने देश के कोचों को काम की आज़ादी देने की ज़रूरत है. उन्होंने पु​लेला गोपीचंद का उदाहरण देते हुए उन्हें भारत का एकमात्र स्टार कोच बताया.किदाम्बी ने कहा, ''हर खेल अपने आप में अलग है और क्रिकेट की बैडमिंटन से तुलना नहीं की जा सकती.''

उन्होंने कहा, ''भारत में बैडमिंटन को लेकर दिलचस्पी बढ़ रही है, जो भविष्य में और भी बढ़ेगी.''साथ ही बातचीत के दौरान किदाम्बी ने अपनी करियर प्लानिंग भी बताई.उन्होंने कहा कि वह अगले 10 सालों तक खेल और अपने करियर पर ही ध्यान देना चाहते हैं. उन्होंने अपनी अकादमी खोलने की बात को ख़ारिज कर दिया.किदाम्बी ने खेलों को बढ़ावा देने के लिए सरकार के प्रयासों की प्रशंसा की और खेलों के लिए एक उज्ज्वल भविष्य की उम्मीद जताई.हैदराबाद के रहने वाले किदाम्बी ने रविवार को फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट जीत था. वह इस खिताब को जीतने वाले पहले भारतीय बन गए हैं.

मौजूदा सत्र में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले भारतीय बैडमिंटन के नए सुपर स्टार किदांबी श्रीकांत को पूर्व खेल मंत्री विजय गोयल ने प्रतिष्ठित पद्म श्री पुरस्कार के लिए नामित किया. श्रीकांत पिछले हफ्ते फ्रेंच ओपन जीतकर एक कैलेंडर सत्र में चार सुपर सीरीज टूर्नामेंट जीतने वाले भारत के पहले और दुनिया के चौथे बैडमिंटन खिलाड़ी बने थे.

अब संसदीय कार्य मंत्री गोयल ने बुधवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर श्रीकांत के नाम की सिफारिश देश के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान के लिए की. पद्म पुरस्कारों के लिए नाम भेजे जाने की समय सीमा हालांकि 15 सितंबर को ही खत्म हो गई है.

गोयल ने लिखा, 'मौजूदा परिस्थितियों में आवश्यक है कि भारत में इस खेल में उसके योगदान को स्वीकार करते हुए इस युवा खिलाड़ी को प्रेरित किया जाए. वह देश के युवाओं के लिए आदर्श हैं और लाखों लोग चाहते हैं कि उसकी उपलब्धियों को मान्यता मिले. कई लोगों ने मुझ से संपर्क किया कि पूर्व खेल मंत्री की हैसियत से मैं इस साल पद्म श्री पुरस्कार के लिए उनके नाम की सिफारिश करूं। इसलिए भारत के लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए मैं किदांबी श्रीकांत के नाम की सिफारिश पद्म श्री पुरस्कार के लिए करता हूं.'

श्रीकांत एकमात्र खिलाड़ी नहीं हैं जिनके नाम की सिफारिश पद्म पुरस्कारों के लिए की गई है. महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु और पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के नाम की सिफारिश पद्म भूषण के लिए की गई है. पूर्व राष्ट्रीय टेनिस चैंपियन नितिन कीर्तन ने भी अपना आवेदन भेजा है. पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री पुरस्कारों की घोषणा प्रत्येक वर्ष गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर की जाती है.किदांबी श्रीकांत को उनके घरेलू राज्य आंध्र प्रदेश की सरकार ने दो करोड़ रुपए का पुरस्कार देने की घोषणा की.राज्य कैबिनेट की बैठक के बाद आंध्र प्रदेश के सूचना मंत्री के श्रीनिवासुलु ने संवाददाताओं को इस पुरस्कार की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि गुंटूर जिले के रहने वाले श्रीकांत को डिप्टी कलेक्टर के दर्जे की सरकारी नौकरी भी दी जाएगी.