क्यों हारा पाकिस्तान से भारत?

07

लंदन: भारतीय कप्तान विराट कोहली ने पाकिस्तान से आईसीसी चैंपियंस ट्राफी का फाइनल रविवार को 180 रन के बड़े अंतर से हारने के बाद कहा कि फाइनल हारना निराशाजनक रहा। विराट ने मैच के बाद कहा कि पाकिस्तान को जीत का पूरा श्रेय जाता है जिसने हमें खेल के तीनों विभागों में पछाड़ दिया। हमने बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों में ही अच्छा प्रदर्शन नहीं किया। उन्होंने पाकिस्तान से मिली हार का कारण बताते हुए कहा कि गेंदबाजी में हम विकेट निकाल सकते थे जो हम नहीं कर सके। पिच पूरे मैच के दौरान एकसमान थी लेकिन हमारे बल्लेबाजों ने विकेट पर टिकने का धैर्य नहीं दिखाया।

छोटी चीजें आखिर में बड़ी हो जाती हैं
भारतीय कप्तान को इस बात का अफसोस रहा कि इस मैच में शतक जमाने वाले फखर जमान का विकेट उन्हें नो बॉल के कारण नहीं मिल पाया। उन्होंने कहा कि कई बार छोटी चीजें आखिर में बड़ी हो जाती हैं। हमने पहले भी ऐसा देखा है और यहां फाइनल में भी ऐसा हो गया। विराट ने विजेता पाकिस्तानी टीम को बधाई देते हुये कहा कि मैं पाकिस्तान को बधाई देना चाहता हूं जिन्होंने शानदार टूर्नामेंट खेला। उन्होंने जिस तरह वापसी की वह यह दर्शाता कराता है कि उनमें कितनी प्रतिभा है। उन्होंने एक बार फिर साबित किया कि वे अपने दिन किसी भी टीम को हरा सकते हैं।

गेंदबाजी का फैसला लेना गलत नहीं था
विराट ने कहा कि मैं फाइनल में हारने पर निराश हूं लेकिन मुझे इस बात की खुशी है कि हमारी टीम ने टूर्नामेंट में शानदार खेल दिखाया और फाइनल तक पहुंची। पाकिस्तानी टीम तीनों विभाग में बेहतर रही जिससे एक बात साबित होती है कि आपको किसी टीम को हल्के में नहीं लेना चाहिये। आज के दिन टीम पाकिस्तानी टीम में हमसे ज्यादा जोश और जुनून दिखाई दिया। कप्तान ने कहा कि हमने अपनी ओर से सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश की लेकिन बल्ले के बाद गेंद से पाकिस्तानी ज्यादा आक्रामक थे। हमने हार्दिक को छोड़कर कोई प्रतिरोध नहीं दिखाया। हार्दिक की पारी शानदार रही। टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण करने के फैसले को सही ठहराते हुये विराट ने कहा कि यह फैसला गलत नहीं था। पिच पूरे मैच में एक जैसा ही व्यवहार कर रही थी। लेकिन हम अपनी ताकत का सही इस्तेमाल नहीं कर सके। हमें अपनी गलतियों से सीख लेकर आगे बढऩा होगा।

 

टीम इंडिया की हार के लिए कौन-कौन से कारण

मैच में पाकिस्तान की टीम ने शुरू से ही चैंपियन टीम की तरह खेल दिखाया, वहीं भारतीय टीम ने खेल के सभी विभाग में निराश किया. आइये जानते हैं टीम इंडिया की हार के लिए कौन-कौन से कारण हो सकते हैं.

 
1. खराब गेंदबाजी हार के लिए बड़ी वजह
टीम इंडिया की हार के लिए खराब गेंदबाजी सबसे बड़ी वजह बनी. भारतीय गेंदबाजों ने कल के मैच में खराब गेंदबाजी की. कप्‍तान विराट कोहली ने कल 6 गेंदबाजों को पाकिस्‍तानी बल्‍लेबाजी के खिलाफ उतारा लेकिन भुवनेश्वर कुमार और हार्दिक पांड्या को छोड़कर किसी भी गेंदबाज ने अपना प्रभाव नहीं छोड़ा.
 
सभी गेंदबाजों ने जमकर रन लुटाये और अतिरिक्त रन भी दिये. भारतीय गेंदबाजों ने कल के मैच में 25 अतिरिक्‍त रन दिये, जिसमें 9 रन लेगबाइ में, 13 वाइड और 3 नोबॉल फेंके. बुमराह की नॉबोल पर पाकिस्‍तान के शतकवीर फखर जमान को जीवन दान मिला और उन्‍होंने 114 रन ठोक डोले और भारत को हराने में बड़ी भूमिका निभायी.
 
2. ढह गयी विश्व की नंबर एक बैटिंग लाइनअप
टीम इंडिया को विश्व की सबसे मजबूत बैटिंग लाइनअप वाली टीम मानी जाती है. शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली, युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धौनी जैसे चोटी के बल्‍लेबाज से सजी टीम इंडिया की हालत कल पाकिस्‍तान के खिलाफ इतनी खराब होती ऐसा किसी ने सोचा भी नहीं था. पाकिस्‍तानी गेंदबाज के सामने भारतीय बल्‍लेबाजों की हवा निकल गयी. ताश के पत्तों की तरह भारतीय बल्‍लेबाजी ढह गयी. हार्दिक पांड्या को छोड़ दिया जाए तो किसी भी भारतीय बल्‍लेबाज ने अपना काम सही से नहीं किया. सभी ने लापरवाही के साथ बल्‍लेबाजी की और अपना विकेट पाकिस्‍तान गेंदबाज की झोली में डाल दिया. नतीजा हुआ की पूरी भारतीय टीम 30 ओवर और 3 गेंद पर 158 रन पर आउट हो गयी.
 
3. धौनी और युवरा‍ज ने चमक खोयी
 
चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल से पहले महेंद्र सिंह धौनी और युवराज सिंह को टीम इंडिया के लिए तुरुप का इक्का माना जा रहा था. ऐसा माना जा रहा था कि टीम इंडिया को इन दोनों अनुभवी खिलाड़ी का जरूर लाभ मिलेगा. लेकिन कल के मैच में दोनों ने निराश किया. युवराज सिंह ने थोड़ी बहुत हाथ दिखाया और चार चौके भी लगाये, लेकिन 22 रन बनाकर पवेलियन का रास्ता पकड़ लिया. उसी तरह धौनी भी बड़े शॉट की तलाश में अपना विकेट सस्ते में दे दिया.
 
4. जडेजा ने पांड्या को रन आउट कराया, खेल भावना की दिखी कमी
कल के मैच में रवींद्र जडेजा की एक गलती भी टीम इंडिया के लिए भारी पड़ गयी. जडेजा और हार्दिक पांड्या अच्‍छा खेल रहे थे. दोनों के बीच साझेदारी भी बढ़ रही थी. ऐसा लग रहा था कि दोनों मिलकर भारत को ट्रॉफी दिलाकर रहेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. जडेजा की बढ़ी गलती ने पांड्या को रन आउट करा दिया. जडेजा ने पांड्या को गलत रन के लिए कॉल किया, पांड्या भी तेजी से भागे और जडेजा के एंड पर पहुंच गये्. लेकिन जडेजा रन के दौड़े पर आधे के बाद वापस अपनी क्रिच पर लौट आये और इस तरह पांड्या रन आउट हो गये. जबकि वहां पर जडेजा को खेल भावना का परिचय देते हुए पांड्या को सुरक्षित रखते हुए खुद का विकेट दे देना चाहिए था.
 
5. कोहली की खराब कप्तानी
 
पाकिस्‍तान के खिलाफ विराट कोहली के लिए बड़ा मौका था अपनी कप्‍तानी को साबित करने का, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. कल के मैच में विराट कोहली की कप्‍तानी औसत रही. सबसे पहले तो उन्‍होंने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला लिया, जो कि एक गलत फैसला साबित हुआ और पाकिस्‍तानी टीम पहले खेलते हुए 338 रन का विशाल स्‍कोर खड़ा किया. रन का पीछा करते हुए पूरी भारतीय टीम 158 रन पर ऑलआउट हो गयी.
 
कोहली ने गेंबदाजी चुनाव में भी खराब फैसला लिया. आर अश्विन की जमकर धुलाई हो रही थी, लेकिन गेंद उन्‍हीं को सौंपा जा रहा था. कोहली ने अश्विन से पूरे 10 ओवर फेंकवाये. जबकि युवराज सिंह जैसे पार्टटाइम गेंदबाज को एक ओवर भी नहीं दिया. इसके अलावा कई और फैसले भी कोहली के काफी चौंकाने वाले रहे.